बच्चों के कपड़े खरीदना बच्चों का खेल नहीं

0

जैसे-जैसे जमाना बदल रहा है फैशन ट्रेंड भी महानगरों से लेकर छोटे शहरों तक हर उम्र के लोगों को प्रभावित करने लगे हैं, यहाँ तक कि अब छोटे-छोटे बच्चे भी “फैशन कोंशस” हो चुके हैं और अपनी मर्जी के कपड़े पहनना चाहते हैं। मॉडर्न पेरेंट्स तो बच्चे के पैदा होने से पहले ही उसकी वार्डरॉब प्लान कर लेते हैं, जिसमें डिज़ाइनर कपड़ों से लेकर जूतों, सॉफ्ट टॉयज और बाकि फैशन एक्सेसरीज के अरमान सजे रहते हैं, आखिर कौन नहीं चाहता कि उसका बच्चा खूबसूरत नजर आए, पर बच्चों के कपड़े खरीदना किसी महाभारत से कम नहीं!

दरअसल छोटे बच्चे बहुत तेजी से बढ़ते हैं और कपड़ो का सही साइज़ चुनने में अक्सर पेरेंट्स को खासी दिक्कत आती है। एक अन्य कारण यह है कि बच्चों की स्किन बेहद संवेदनशील होती है और पेरेंट्स के सामने यह कशमकश रहती है कि कपड़ो को सुन्दर डिजाईन देखकर खरीदा जाए या अच्छा फैब्रिक देखकर…

बाल रोग विशेषज्ञ डॉ. समीर टुटेजा के अनुसार रात को सोते वक़्त हमेशा बच्चे को हल्के और लूज कपड़े पहनाएँ ताकि बच्चा सहजता से अपनी नींद पूरी कर सके और अगले दिन एक्टिव रहे। कपड़े के फैब्रिक में भी ख़ास सावधानी बरती जानी चाहिए, जिन बच्चों को अस्थमा या एलर्जी है उन्हें फर वाले कपड़े नहीं पहनाने चाहिएं।

सर्दियों में सीधे ऊनी कपड़े या कैप इत्यादि पहनाने की बजाय पहले कोई सूती कपड़ा अवश्य पहनाएँ, वर्ना बच्चे की कोमल त्वचा पर ऊन की रगड़ से रैशेज हो सकते हैं। इसी तरह गर्मियों में भी प्योर कॉटन की बनी बनियान जरुर पहनाएँ, क्योंकि कपड़े के रंग में मौजूद रसायन पसीने के साथ मिलकर त्वचा पर बुरा प्रभाव डाल सकते हैं। 

छोटे बच्चों के कपड़े खरीदते समय इन बातों का रखें ख्याल – Kids Wear Shopping Tips

AtoZ Kids World के संचालक संदीप बत्रा के अनुसार बच्चों के कपड़े खरीदते समय फैब्रिक और डिजाईन में एक संतुलन बनाकर चलना चाहिए। पेरेंट्स अपनी उम्र और अपनी पसंद के हिसाब से कपड़े सेलेक्ट करने की बजाय यह देखें कि बच्चे की त्वचा और रंग-रूप के हिसाब से उस पर कौन-सा कपड़ा जंचेगा।

बच्चों को तैयार करते वक़्त ऐसे कपड़े कभी भी नहीं पहनाने चाहिएं जिनमें वे अपनी उम्र से बड़े नजर आएं और उनकी मासूमियत भारी-भरकम डिजाईन के पीछे दब जाए। कपड़े चाहे प्योर कॉटन के बने हों या सिंथेटिक मेटीरियल के उनका फैब्रिक और पैटर्न हमेशा सॉफ्ट होना चाहिए, ख़राब क्वालिटी के कपड़ों से बच्चों की कोमल त्वचा पर रैशेज और एलर्जी की समस्या हो सकती है।

Kids wear online, kids fashion, fancy dress competition dress tips

  • डेलीवियर कपड़े हमेशा हल्के और सॉफ्ट फैब्रिक से बने होने चाहिएं, पर यदि आप Partywear कपड़े खरीद रहे हैं तो नि:संदेह वह कुछ ही घंटो के लिए पहने जाएँगे, तब आप अच्छे डिजाईन और पैटर्न को तवज्जो दे सकते हैं।
  • चूंकि छोटे बच्चे बेहद तेजी से बढ़ते हैं, उनके कपड़े खरीदते साइज़ का ख़ास ध्यान रखना चाहिए। बच्चे के सही साइज़ से एक साइज़ बड़ा लेकर उसे अन्दर की तरफ से फोल्ड करवा लें, पर ध्यान रहे यदि वेडिंग ड्रेस और पार्टीवियर कपड़े ले रहे हैं तो उसका पैटर्न पहले ही देख लें कि उसमें फोल्ड होने की गुंजाईश है या नहीं। डेलीवियर कपड़े कभी भी ओवरसाइज़ न लें क्योंकि इनकी कीमत बहुत ज्यादा नहीं होती है तो बच्चे को गलत साइज़ पहना कर असहज करने का कोई औचित्य नहीं है।
  • बच्चों को कभी भी टाइट फिटिंग के कपड़े न पहनाएं। हो सकता है कि इन कपड़ो में वे सुंदर दिखें पर यदि वह कंफर्टेबल महसूस नहीं करेंगे तो कपड़े बेशक कितने ही फैशनेबल हों, बच्चे के चेहरे पर झलकती असहजता में वह कभी भी खूबसूरत नहीं दिखेगा।
  • जब भी फैब्रिक का चुनाव करें तो यह ध्यान में रखें वह मौसम के अनुकूल हो। हमेशा मौसम को ध्यान में रखते हुए ही कपड़े पहनाएँ – गर्मियों में सूती कपड़े अच्छे रहते हैं, धूप में निकलते टाइम स्लीवलेस कपड़े न पहनाएँ और सिर को कैप या टॉवल से ढँककर रखें। इसी तरह सर्दियों के कपड़े गरम, नरम और आरामदायक होने चाहिएं, हाथ-पैर गर्म रखने के लिए दस्ताने और मौजे जरुर पहनाएँ, आजकल हर साइज़ के Gloves और Socks ऊनी फैब्रिक में मिल जाते हैं।
  • कपड़ों की क्वालिटी के साथ-साथ उसे धोने में प्रयोग होने वाले साबुन या डिटर्जेंट का भी खास ख्याल रखा जाना चाहिए कि उसमें कोई हानिकारक केमिकल न हो।
  • कई बार भाई-बहनों को कपड़े पहनते वक़्त पेरेंट्स शौक-शौक में एक ही डिजाईन या कलर के कपड़े पहना देते हैं, यह जरूरी नहीं कि दोनों बच्चों की पसंद एक-सी हो या दोनों के रंग-रूप पर एक ही डिजाईन फबे।
  • कूल दिखने के चक्कर में बच्चों को कभी भी ऐसे कपड़े न पहनाएँ जिन पर कुछ डबल-मीनिंग या असभ्य शब्द न लिखे हों, यदि बच्चा आपसे उन शब्दों का मतलब पूछ लेता है तो आपके लिए असहज स्थिति पैदा हो सकती है।

Also Read: कैसे करें महंगे कपड़ों की हिफाजत

Leave A Reply

Your email address will not be published.